मेरी खामोसी को कमजोरी ना समझ
ऐ काफिर ,,
गुमनाम समन्दर ही खौफ लाता है ।

Advertisements