गजब की है फरमाइशें इस दिल-ऐ-नादान की ,
वो होते , हम होते और होंठों पे होंठ होते !!