राज तो हमारा हर जगह पे है…।
पसंद करने वालों के “दिल” में ; और
नापसंद करने वालों के “दिमाग” में…।।