तुमसे बिछड़े तो मालुम हुवा की
मौत भी कोई चीज़ हे ,
ज़िदगी तो वोह थी जो हम तेरी
मेहफिल में गुजार आये ।