फ़रिश्ते ही होंगे जिनका इश्क मुकम्मल होता है ,
हमने तो यहाँ इंसानों को बस बर्बाद होते देखा है !