बेवफ़ाओं की महफ़िल लगेगी ,
आज ज़रा वक़्त पर आना
” मेहमान-ए-ख़ास ” हो तुम… !!