बड़ी गुस्ताख़ है तेरी यादें इन्हे तमीज
सिखा दो…
दस्तक भी नहीं देती और दिल में ऊतर
आती है….!!