फकीरों की मौज का क्या कहना साहब….

राज ए मुस्कराहट पूछा तो बोले….
सब तुम्हारी मेहरबानी हे….!!!