जुर्म इतना ना कर क,े
हर कोई समझे तुझे कातिल मेरा हमदम  ,
मैंने ज़माने को तुझे अपनी जान बता रखा है।