…खतरा है इस दौर में, बुजदिलों से दिलेर को.धोखे से काट लेते हैं ”कुत्ते” भी ”शेर” को…!