ये तो ज़मीन की फितरत है की ,
वो हर चीज़ को मिटा देती हे वरना ,
तेरी याद में गिरने वाले आंसुओं का ,
अलग समंदर होता…!!