मैं शिकायत क्यों करूँ ,
ये तो नसीब की बात है,
तेरे ज़िक्र में भी मैं नहीं ,
मुझे “लफ्ज़ लफ्ज़” तू याद है !!