मैं तो गजल सुना के तन्हा खड़ा रहा,
सब अपने-अपने चाहने वालों में खो गए..।