मयखाने बंद कर दे चाहे
लाख दुनिया वाले लेकिन!
शहर में कम नही है,
“निगाहों” से पिलाने वाले !!!