तू रूठा रूठा सा लगता है
कोई तरकीब बता मनाने की ,
मैं ज़िन्दगी गिरवी रख दूंगा ;
तू क़ीमत बता मुस्कुराने की..।