खून अभी वो ही है
ना ही शोक बदले ना ही जूनून,
सून लो फिर से,
रियासते गयी है रूतबा नही,
रौब ओर खोफ आज भी वही हें |