कल सारी रात घटायें बरसती रही
बाहर सावन की ,भीतर तेरी यादों की …!!