आज़मा ले मुझको थोडा और, ए खुदा…
तेरा “बंदा” बस बिखरा हैं अब तक, टूटा नही..!!