हमारे ऐतबार की हद,
ना पूछ ‘ग़ालिब’,
उसने दिन को रात कहा,
और हमने ‘पैग’ बना लिया ..!!