आज़ाद कर दिया हे हमने भी उस पंछी को …,

जो हमारी दिल की कैद में रहने को तोहीन समजता था ..।