न कसूर इन लहरों का था,
न कसूर उन तूफानों था,
हम बैठ ही लिये थे उस कश्ती में ;
नसीब में जिसके डूबना था…!!