काश ये इश्क भी चुनावों की तरह होता,
हारने के बाद विपक्ष में बैठकर,
कम से कम दिल खोलकर बहस तो कर लेते

Except 2014 Lok Sabha Election..े