उससे कह दो कि मेरी सज़ा कुछ कम कर दे,
हम पेशे से मुज़रिम नहीं हैं बस गलती से इश्क हुआ था…

Advertisements