वो मंज़िल ही बदनसीब थी जो हमें पा ना सकी,….
वरना जीत की क्या औकात जो हमें ठुकरा दे ।