डूबी हे मेरी उंगलिया खुद अपने लहू में ,
ये कांच के टुकडो को उठाने की सजा हे !