उस फिजा में भी जलता रहा मैं किसीके लिए ,
जहा चिराग भी तरसते थे रौशनी के लिए !