दो गज ही सही मालिक तो हुँ….
ऐ – मौत !
तुने तो मुझे जमीँदार बना दिया….!!