हमसे खेलती रही दुनिया,
ताश के पत्तो की तरह,
जिसने जीता उसने भी फेका,
जिसने हारा उसने भी फेका……