हमारे एक इशारे पे हवाए भी अपना रुख बदल देती हे ,
मेरे तिनके बिखेरे जो ,
ज़हान मैं किसकी हस्ती हे !!