तुम्हारी यादों से केहना आज छुटी दे दे ,
कमबक्त आज हमारी किस्मत रूठी  हुई हे ,
बेवजह जुदाई हम बर्दास्त नही कर पायेंगे ।
– शान