इन बादलों का मिज़ाज मेरे मेहबूब से काफी मिलता हे ,
कभी टुटके बरसाते हे तो कभी बेरुखी से गुजर जाते हे !!