मैं तेरे नसीब की बारिस नहीं जो तुज पे बरस जाऊ।।
तुझे तक़दीर बदल नि होगी मुझे पाने के लिए  ।