“जमाने ने  आहीर के उसूल तो बदल दिए” पर “खून और दादागिरी आज भी वो ही है.. ।।