ज़माना कुछ भी कहे उसका एहतेराम ना कर,
जिसे ज़मीर ना माने उसे सलाम ना कर !