सामने मंजिल थी और,
पीछे उसका वज़ूद…
क्या करते, हम भी यारों.

रूकते तो सफर रह जाता…
चलते तो हमसफर रह जाता…