वो मायूसी की लम्हों में जरा भी होसला देती..,
.
.
तो..,
.
.
हम कागज़ की कश्ती पर समन्दर में उतर जाते..!.