मांगो तो अपने रब से मांगो,
जो दे तो रहमत और न दे तो किस्मत,
लेकिन दुनिया से हरगिज़ मत माँगना,
क्योंकि दे तो एहसान और न दे तो शर्मिंदगी।