तू देख या ना देख;तेरे देखने का गम नहीं„
पर तेरी ये ना देखने की अदा भी देखने से कम नहीं