टूटे हुए सपनो और छुटे हुए अपनों ने मार दिया……
वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सिखने आया करती थी….