जिंदगी हमारी यूं सितम हो गई,
खुशी ना जानें कहां दफन हो गई..
लिखी खुदा ने मुहब्बत सबकी तकदीर में.
हमारी बारी आई तो स्याही खत्म हो गई..!

Advertisements