तुमने देखा ही नहीं अपनी हथेली को कभी गौर
से!
उस में धुंधली सी एक लकीर मेरे “अधूरे” अहसास
की भी है ।

Facebook Page
http://www.fb.com/ApunKaStatus

Advertisements