उन्हेँ तो फुरसत ही ना मिली पढने की…
हम तो उसके शहर में बिकते रहे,
किताबों की तरह…!!

ApunKaStatus.tk