बेशक ताज के पत्तों में लाखों गवा दिये,
पर रुतबा आज भी ईतना है कि,
बेगम आज भी हमारे ईशारो पे चाल चलती है !

ApunKaStatus.tk