लगाकर आग़ सीने में,
कहाँ चले हो तुम हमदम ?
अभी तो राख़ उडने दो,
तमाशा और भी होगा…!!

ApunKaStatus.tk