हमारी शक्सियत का अंदाज़ा
तुम क्या लगाओगे गालिब…
के हम तो कब्रगाहों से भी गुज़रते है
तो मुर्दे उठ कर कहते है
“भाई सलाम”

ApunKaStatus.tk