सुना हे दिल समंदर से भी गहरा होता हे ,
फिर क्यु नही समाया इस में कोई और उसके सिवा !..।