वो तो अपनों की ही फिकर में वक्त की किमत समजते हे ,
वरना वक्त को भी समजा देते हमारी किमत क्या हे ।