प्यार में वो मेरा इम्तेहान क्या लेगी ,
नजरे मिला के पलके जुका लेगी ;
दोस्तों ना केहना मेरी कबर पर दिया जलाने को  ,
वो नादान अपना हाथ जला लेगी ।