गुलामी तो तेरे इश्क की हे वरना ,
ये दिल कल भी नवाब था और आज भी हे ।

Advertisements