खत्म हो भी तो कैसे, ये मंजिलो की आरजू …
ये रास्ते है के रुकते नहीं, और इक हम के झुकते नही